माँ दुर्गा मंदिर थावे

दिशा

थावे प्रखंड में देवी दुर्गा का एक प्राचीन मंदिर अवस्थित है एवं यह मंदिर थावे वाली माता के नाम से
विख्यात है। इस मंदिर के बारे में यह मान्यता है कि थावे वाली माता अपने भक्तों की हर मुराद पूरी
करती हैं। मंदिर के बाड़े के भीतर एक अजीब वृक्ष है, जिसके वनस्पति परिवार का अभी तक पहचान
नहीं किया गया है। पेड़ क्रॉस की तरह बढ़ा हुआ है। मूर्ति और पेड़ के संबंध में विभिन्न किंवंदन्तियाँ
प्रचलित हैं। यहाँ चैत्र माह (मार्च-अप्रैल) में सालाना एक बड़ा मेला आयोजित किया जाता है।

फोटो गैलरी

  • थावे देवी माता
  • थावे मंदिर का बाहरी भाग
  • पूजन सामग्री
  • भक्त एवं वानर

कैसे पहुंचें:

बाय एयर

यहाँ का नजदीकी हवाई अड्डा सबेया हवाई अड्डा है। यहाँ पहुंचने के बाद सड़क मार्ग द्वारा मंदिर जाया जा सकता है।

ट्रेन द्वारा

थावे मंदिर के पास ही थावे जंक्शन है जो कि सिवान - गोरखपुर मार्ग का महत्वपूर्ण स्टेशन है।

सड़क के द्वारा

जिला मुख्यालय के अरार मोड़ से सीधी सड़क थावे मंदिर तक गयी हुई है। सिवान जिला के रास्ते से भी मंदिर जाया जा सकता है।